दुनिया

UN में इमरान खान ने कश्मीर को लेकर बहाए घड़ियाली आंसू, भारत ने आरोपों को बताया झूठा प्रचार

संयुक्त राष्ट्र: अपनी आदत से बाज आए बिना पाकिस्तान ने UNGA की बैठक में एक बार फिर कश्मीर का रोना रोया. बैठक के दौरान पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने कश्मीर के मुद्दे पर एक के बाद एक गलत तथ्यों को रखा और भारत सरकार पर झूठे आरोप लगाए. अफगानिस्तान के मुद्दे पर भी हकीकत को नजरअंदाज करते हुए इमरान खान ने खुद को ही पीड़ित बता दिया.

वहीं इमरान खान के झूठे आरोपों का जवाब देते हुए भारत ने कहा कि इमरान खान आंतकवाद के पीड़ित होने का ढोंग करते हैं. इमराम खान के भाषण के बाद राइट टु रिप्लाई का इस्तेमाल करते हुए पाकिस्तान के झूठे आरोपों की कलई खोल कर रख दी. भारत की ओर से फर्स्ट सेक्रेटरी स्नेहा दुबे पक्ष रखा.

भारत ने संयुक्त राष्ट्र के मंच पर कहा कि किस तरह पाकिस्तान वैश्विक मंच का इस्तेमाल झूठ और फरेब फैलाने के लिए कर रहा है. एक ऐसा देश जो आतंकियों की पनाहगाह है, एक ऐसा देश जहां संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित सबसे ज्यादा आतंकी मौजूद हैं, वो देश जो ओसामा बिन लादेन को शहीद का दर्जा देता है, वो देश खुद को आतंकवाद से पीड़ित बता रहा है.

भारतीय राजनयिक स्नेहा दुबे ने कहा, ”यह पहली बार नहीं जब पाकिस्तान के नेता ने मेरे देश के खिलाफ झूठे और निधार आरोप लगाने के लिए संयुक्त राष्ट्र के मंच का गलत इस्तेमाल किया है. पाकिस्तान खुद को आतंकवाद से पीड़ित बता रहा है लेकिन वहां आतंकी मजे से रह रहे हैं और आम आदमी और खासकर अल्पसंख्यक समुदाय की जिंदगी बेहाल है. आधुनिक विश्व में आतंकवाद का ऐसा बचाव अस्वीकार्य है. पाकिस्तान इस उम्मीद में आतंकवादियों को पालता है कि वो सिर्फ उसके पड़ोसी देशों को नुकसान पहुंचाएंगे लेकिन इससे कारण पूरी दुनिया को प्रभावित होना पड़ रहा है. ”

इमरान खान ने सुयंक्त राष्ट्र में क्या रोना रोया?
संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में भी पाकिस्तान ने एक बार फिर पुराना रंग दिखाया और कश्मीर का रोना रोया. इमरान ने झूठी दलीलों और गलत तथ्यों के सहारे कश्मीर पर दुनिया का ध्यान खींचने की कोशिश की. इमरान ने एक बार फिर इस द्विपक्षीय मुद्दे में बाहरी दखल की मांग की, जबकि दुनिया के तकरीबन हर देश ने ये साफ कर दिया है कि कश्मीर का मुद्दा भारत-पाकिस्तान का आपसी मामला है. UNGA की बैठक में पाकिस्तान की काफी फजीहत हो रही है, अफगानिस्तान के मसले पर कई देश पाकिस्तान की भूमिका पर सवाल उठा चुके हैं. इस पर सफाई देते हुए इमरान खान ने खुद को ही पीड़ित बता दिया.

तालिबान के मुद्दे पर अपनी करतूत छिपाने की कोशिश
दरअसल विश्व बिरादरी के सामने पाकिस्तान कश्मीर और अफगानिस्तान का मुद्दा उठाकर अपनी करतूतों पर पर्दा डालने की कोशिश कर रहा है. वॉशिंगटन में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर और बलोच इलाके के लोग वहां पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. इन इलाकों में मानवाधिकारों के उल्लंघन के मुद्दे पर पाकिस्तान को जवाब देना मुश्किल हो रहा है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close