उत्तराखंड

उत्तराखंड: छात्रवृत्ति घोटाले में नामजद एक और आरोपी गिरफ्तार, कर रहा एमफिल की पढ़ाई

उत्तराखंड: काशीपुर में कुंडा थाना पुलिस ने छात्रवृत्ति घोटाले के एक बिचौलिये को गिरफ्तार किया है। कोर्ट में पेश कर उसे जेल भेज दिया गया है। पकड़े गए आरोपी के खिलाफ काशीपुर कोतवाली में भी केस दर्ज था, जिसके चलते कोतवाली पुलिस ने भी आरोपी को तलब किया।

छात्रवृत्ति घोटाले की जांच कर रहे एसआईटी निरीक्षक भीम भाष्कर आर्य ने 12 मार्च को कुंडा थाने में डॉ. बीएनसीपीई ऑफ फिजिकल एजुकेशन महाराष्ट्र समेत दो बिचौलियों जग्गा सिंह और दिग्विजय सिंह निवासी मडुवाखेड़ा जसपुर के खिलाफ केस दर्ज कराया था। जांच में दोनों बिचौलियों की ओर से छात्रों का फर्जी दाखिला दिखाकर तीन लाख 32 हजार 850 रुपये हड़पने की पुष्टि हुई थी।

विवेचना के दौरान छात्रों से भी पूछताछ की गई, जिसमें छात्रों ने बताया कि बिचौलियों ने उनके फर्जी कागजात लगाकर धोखाधड़ी की है। इसके अलावा एक मार्च 2020 को काशीपुर कोतवाली में भी विवेकानंद एजुकेशनल इंस्टीट्यूट और बिचौलिये जग्गा सिंह को नामजद किया गया था।

मुकदमे की विवेचना कर रहे कुंडा थाने के एसआई विनय मित्तल ने बताया कि मामले में जसपुर और आसपास के 20 छात्रों का फर्जी दाखिला अलग-अलग शिक्षण संस्थानों में दिखाया गया था।

दो दिन पूर्व पैगा चौकी पुलिस की ओर से गिरफ्तार किया गया पाकेश बिचौलिये जग्गा का बड़ा भाई है। जग्गा को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेजा गया है। एसएसआई सतीश कापड़ी ने भी आरोपी जग्गा को तलब कर लिया है।

नैनीताल से कर रहा है एमफिल की पढ़ाई 
छात्रवृत्ति घोटाले में पकड़ा गया आरोपी जग्गा बीए करने के बाद नैनीताल से एमफिल की पढ़ाई कर रहा है। पुलिस के अनुसार छात्रवृति घोटाले में बिचौलिया बनने से पहले जग्गा सबसे पहले दिग्विजय के संपर्क में आया और उसके बाद लालच में आकर छात्रों को बरगलाने के बाद उनके दस्तावेज से फर्जी दाखिला करवाने लगा। हालांकि पुलिस पूछताछ में जग्गा खुद को निर्दोष बताता रहा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close