राष्ट्रीय

मुंबई-दिल्ली फिर बना कोरोना का ‘हॉटस्पॉट’, राजधानी में आए 1313 नए मामले तो वहीं मुंबई में 3671 लोग हुए संक्रमित

देश में कोरोना के बढ़ते मामले ने एक बार फिर प्रशासन से लेकर लोगों तक की चिंता बढ़ा दी है. कुछ ही दिनों में कोविड के बढ़े मामलों में दोगुनी ब़़ढोतरी से देश में तीसरी लहर की आशंका गहरा गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार 30 दिसंबर को पिछले 24 घंटे में देशभर में कोरोना के 13,154 नए मामले दर्ज किए गए हैं, जो बुधवार की तुलना में 43 फीसदी ज्यादा है.

वहीं देश के दो प्रमुख शहरों मुंबई और दिल्ली में सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमितों के मामले आ रहे हैं. मुंबई-दिल्ली एक बार फिर कोरोना का हॉट स्पॉट बन गया है. स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार मुंबई में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमितों के 3671 नए मरीज मिले तो दिल्ली में आठ महीने बाद सबसे ज्यादा यानी 1313 केस दर्ज किए गए.

मुंबई में लगातार बढ़ रहे मामले को देखते हुए कल महाराष्ट्र सरकार में मंत्री आदित्‍य ठाकरे ने मेयर किशोरी पेडनेकर और बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) के आयुक्त इकबाल सिंह चहल के साथ शहर के मौजूदा स्थिति पर चर्चा करने के लिए एक बैठक भी किया था. उन्होंने लोगों से कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने की अपील करते हुए कहा कि मुंबई में कोरोना के केसों की संख्‍या आज से 2000 के आंकड़े को पार कर सकती है.

संक्रमण चेन तोड़ने के लिए प्रतिबंध

इस बीच देश के दो प्रमुख शहरों में कोरोना संक्रमण के चेन को तोड़ने के लिए राज्य सरकार द्वारा कईं प्रतिबंध लगाए जा रहे हैं. दरअसल मामलों में वृद्धि के मद्देनजर राजधानी दिल्ली के CM केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने मंगलवार को दिल्ली में ‘येलो अलर्ट’ घोषित किया था, जिसके तहत जारी किए गए दिशानिर्देश के अनुसार स्कूल, कॉलेज, सिनेमा और जिम बंद रहेंगे. आदेश में कहा गया है कि दिल्ली मेट्रो अपनी 50 प्रतिशत सीट क्षमता के साथ संचालित होगी, जबकि ऑटो रिक्शा और कैब में दो यात्री तक बैठ सकते हैं.

प्रोटोकॉल उल्लंघन के 4300 मामले

इस बीच 28 दिसंबर को जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार राजधानी दिल्ली में कोविड-19 दिशानिर्देश (प्रोटोकॉल) के उल्लंघन के 4300 से ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं. दिल्ली सरकार द्वारा 28 दिसंबर के लिए जारी आंकड़ों के अनुसार, उल्लंघन के कुल 4,392 मामलों में से 4,248 मामले मास्क से जुड़े हैं जबकि 83 मामले दो गज की दूरी और 60 मामले सार्वजनिक स्थानों पर थूकने से जुड़े हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close