राष्ट्रीय

अच्छी खबर: भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन के पहले चरण का ट्रायल सफल, नहीं दिखा कोई साइड इफ़ेक्ट

नई दिल्ली I भारत बायोटेक द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित कोविड-19 कोवाक्सिन (कोवैक्सीन) के पहले चरण के नैदानिक परीक्षण (क्लिनिकल ट्रायल) के अंतरिम निष्कर्षों से पता चला कि इसकी सभी खुराकों को परीक्षण होने वाले समूहों ने अच्छी तरह से सहन किया। इसमें कोई गंभीर या प्रतिकूल प्रभाव सामने नहीं आया। एक प्रीप्रिंट सर्वर मेड्रैक्सिव पर आए निष्कर्षों के अनुसार, कोविड-19 से स्वस्थ हुए मरीजों से एकत्रित किए गए लार पर टीके ने मजबूत असर दिखाया और एंटीबॉडी प्रतिक्रियाओं को बेअसर किया।

प्रीप्रिंट सार्वजनिक सर्वर पर जारी एक ऐसा वैज्ञानिक पांडुलिपि का संस्करण है जो परीक्षण से पहले समीक्षा में जाता है। निष्कर्षों से पता चला है कि इसमें केवल एक गंभीर प्रतिकूल घटना की सूचना आई थी हालांकि बाद में इस टीके से उसका संबंध नहीं पाया गया। यह कोवाक्सिन अथवा कोवैक्सीन  (बीबीवी152) की सुरक्षा और प्रतिरक्षण क्षमता का मूल्यांकन करने के लिए एक डबल-ब्लाइंड रैंडम नियंत्रित पहले चरण का नैदानिक परीक्षण था। दस्तावेज़ में उल्लेख किया गया है कि बीबीवी152 को 2 डिग्री सेल्सियस और 8 डिग्री सेल्सियस के बीच संग्रहीत किया जाता है, जो सभी राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम कोल्ड चेन की आवश्यकताओं के अनुरूप है और इससे आगे प्रभावी परीक्षण होते हैं।

सार्स-कोव-2 वैक्सीन बीबीवी 152 की एक निष्क्रिय सुरक्षा और प्रतिरक्षण परीक्षण के पहले चरण के अनुसार: टीकाकरण के बाद स्थानीय और प्रणालीगत प्रतिकूल घटनाओं को गंभीरता से हल्के या मध्यम रूप से हल किया गया था और किसी भी निर्धारित दवा के बिना तेजी से हल किया गया। दूसरे खुराक के बाद भी इसी तरह की प्रवृत्ति देखी गई। इंजेक्शन स्थल पर दर्द आम तौर पर होने वाले दर्दे के जैसा ही था।

परीक्षण कके निष्कर्षों के अनुसार, जो एक प्रतिकूल प्रभाव देखा गया वह यह था कि प्रतिभागी को 30 जुलाई को टीका लगाया गया था। पांच दिन बाद, प्रतिभागी ने कोविड -19 के लक्षणों की सूचना दी और मरीज को सार्स-कोव–2 का पॉजिटिव पाया गया।

कोवैक्सीन के परीक्षण में 70 से 80 प्रतिशत भागीदारी घटी : एम्स डॉक्टर

भारत में स्वदेशी रूप से विकसित भारत बायोटेक के कोविड वैक्सीन के तीसरे चरण के टीकाकरण की शुरुआत में ही इसमें हिस्सा लेने वाले वॉलेंटियरों की संख्या में 70 से 80 प्रतिशत की कमी देखी जा रही है। एम्स के एक वरिष्ठ डॉक्टर ने बुधवार को कहा कि “जब नैदानिक परीक्षण शुरू हुआ, तो हम 100 स्वयंसेवक चाहते थे और 4500 से अधिक आवेदन प्राप्त हुए। दूसरे चरण में, हम 50 चाहते थे और 4000 आवेदन प्राप्त किए। तीसरे चरण में, अब जब 1500-2000 प्रतिभागी चाहते थे, हम केवल 200 प्रतिभागियों के आवेदन मिले हैं। एम्स में सामुदायिक चिकित्सा के प्रोफेसर डॉ. संजय राय ने बताया कि अब ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि लोग सोच रहे हैं कि जब एक वैक्सीन जल्द ही सभी के लिए आ रहा है तो स्वयंसेवक पर परीक्षण की क्या जरूरत है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close